20379jfojyiiislctlnz1cqkbe0cu04bdqjb2544490

मध्यप्रदेश के मंदसौर मे 8 साल की बच्ची से दुष्कर्म के मामले मे पुलिस को दूसरे आरोपी को भी गिरफ्तार करने मे कामयाबी मिली है। पुलिस ने आरोपी आसिफ को गिरफ्तार किया है। पुलिस पहले ही एक अन्य आरोपी इरफान को गिरफ्तार कर चुकी है।

वहीं दूसरी और शिवराज सरकार ने केस की जांच के लिए 15 विशेषज्ञ पुलिस अफसरों की जांच टीम का गठन किया है। पकड़े गए आरोपियों का डीएनए टेस्ट होगा और एक सप्ताह में डीएनए टेस्ट की रिपोर्ट आएगी। साथ ही 20 दिन के अंदर चालान पेश होगा।

दोनों आरोपी की गिरफ्तारी के बाद उनके लिए फांसी की मांग हो रही है। मुस्लिम समुदाय के नेताओं ने आरोपी की मौत की सजा की मांग करते हुए घोषणा की है कि वो जिले के किसी भी कब्रिस्तान में उसके शरीर को दफनाने की अनुमति नहीं देंगे।

crime-news-uttara-pradesh-india-six-people-molest-minor-girl

मुस्लिम समुदाय के कई नेताओं ने इरफान की गिरफ्तारी के बाद कहा कि वो इस केस में फांसी की मांग करते हैं। मुस्लिम नेताओं ने कहा कि इस प्रकार के जघन्य अपराध की इस्लाम में कोई जगह नहीं है और इस अपराध के लिए उसे माफ नहीं किया जा सकता है।

वहीं मंदसौर के बार एसोसिएशन ने आरोपी की पैरवी नहीं करने का भी फैसला लिया है। एसोसिएशन ने कहा बच्ची के पक्ष में 100 वकील नि:शुल्क पैरवी करेंगे। वहीं मामले की जांच के लिए राष्ट्रीय बाल आयोग की टीम शनिवार को इंदौर पहुंचेगी।

इसके अलावा मामले में राष्ट्रीय बाल आयोग कि टीम शनिवार को इंदौर पंहुचेगी। आयोग कि मेंबर सेकेट्री गीता नारायण मध्यप्रदेश बालआयोग के अध्यक्ष राघवेंद्र शर्मा के साथ मासूम के परिजनों से मुलाकात करेंगी। मध्यप्रदेश बाल कल्याण आयोग ने इस मामले में मंदसौर से जांच अधिकारी को भी तलब किया है।

बता दें कि एक निजी स्कूल की कक्षा तीन में पढ़ने वाली नाबालिग मासूम बच्ची का बुधवार 26 जून की शाम को अपहरण होने की सूचना पर उसकी तलाश में अभियान चलाया गया। इस दौरान वह शहर के बस स्टैंड के समीप लक्ष्मण दरवाजे के झाड़ियों में घायल अवस्था में पड़ी मिली। बच्ची को मन्दसौर में इलाज के बाद इंदौर रेफर किया गया है जहाँ उसकी हालत खतरे से बाहर बताई गई है।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?