ममता ने तीन तलाक बिल का किया विरोध, TMC सांसदों की लोकसभा में चुप्पी पर उठे सवाल

अहमदपुर: तीन तलाक बिल का विरोध विरोध करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि इस बिल के जरिए मुस्लिम महिलाओं को फायदे की तुलना में ज्यादा नुकसान होगा.

अहमदपुर में एक सभा को संबोधित करते हुए ममता ने कहा, ‘हमने तीन तलाक विधेयक का विरोध इसलिए नहीं किया कि यह महिलाओं से संबंधित है. मुझे मालूम है कि कई मुसलमान नियमों से बंधे हुए हैं. भाजपा सरकार द्वारा लाया गया यह विधेयक दोषपूर्ण है.’

तृणमूल प्रमुख ने कहा, ‘मुस्लिम महिलाओं के संरक्षण की बजाय यह उन्हें नुकसान पहुंचाएगा. भाजपा इस विधेयक को लेकर निचले स्तर की राजनीति कर रही है.’

हालंकि ममता के इस बयान पर सवाल उठने लगे है. माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य और लोकसभा सासद मोहम्मद सलीम ने ममता पर दोगला चरित्र अपनाने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, जब लोकसभा में विधेयक पेश किया गया तब तृणमूल सांसद चूप थे और अब ममता बनर्जी इसे गलत करार दे रही हैं.

सलीम ने कहा, भाजपा के पास हिंदुत्व एक एजेंडा है लेकिन ममता के पास एक नहीं बहु-बिंदु एजेंडा है. जो उनके दोहरे चरित्र को दर्शाता है.

विज्ञापन