brd1

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर मेडिकल कॉलेज एक बार फिर से चर्चा में है. दरअसल,  मेडिकल कॉलेज में प्रिंसिपल के कमरे में अचानक आग लग गई. जिसे दमकल की तीन गाड़ियों की मदद से बुझाया गया. हालांकि आग में कई दस्तावेज जलकर खाक हो गए.

बता दें कि पिछले साल अगस्त में 72 घंटों के भीतर 63 बच्चों की मौत के बाद गोरखपुर मेडिकल कॉलेज सुर्खियों में आया था. इस दुर्घटना की मुख्य वजह अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होना बताया गया था. ऐसे में अब मेडिकल कालेज में आग लगने की घटना पर समाजवादी पार्टी ने किसी साजिश की आशंका जताई है.

सपा के जिलाध्यक्ष प्रलाद यादव ने कहा कि कहीं यह आग आक्सीजन की कमी से हुई बच्चों की मौत से संबंधित फाइलों को रिकॉर्ड से हटाने के लिए तो नहीं लगाई गई. हालांकि बीआरडी कॉलेज प्रशासन की और से अभी आगजनी कीदुर्घटना पर भी कोई जवाब नहीं आया है.

प्रशासन का कहना है कि इस दुर्घटना की वजह का पता लगाया जा रहा है, वहीं इस हादसे में हुए नुकसान का भी पूरा आंकलन शुरू कर दिया गया है.