सितंबर 2015 में दादरी के बिसाड़ा गांव में कथित तौर पर बीफ की अफवाह फैला कर पीट-पीट कर की गई अखलाक की हत्या के मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने मुख्य आरोपी विशाल राणा को जमानत दे दी है. राणा नोएडा के एक भाजपा नेता का बेटा है.

कोर्ट ने विशाल राणा की जमानत इस केस से जुड़े कुछ दूसरे आरोपियों को पहले ही राहत मिलने और उसकी कोई क्रिमिनल हिस्ट्री न होने के आधार पर मंजूर की है. अब तक इस मामले में कुल 14 युवकों को जमानत मिल चुकी है, तीन जेल में बंद है और युवक रवि की न्यायिक हिरासत में मौत हो चुकी है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

जस्टिस प्रत्यूष कुमार की बेंच ने अपने फैसले में कहा है कि जमानत पाने के लिए विशाल को ट्रायल कोर्ट में पर्सनल बॉन्ड और दो श्योरिटीज दाखिल करनी होगी. याचिकाकर्ता विशाल की तरफ से कोर्ट में दलील दी गई कि उसके खिलाफ सीधे तौर पर कोई सबूत नहीं है और लोगों को हत्या के लिए उकसाने का आरोप गलत है.

गौरतलब है कि सितंबर 2015 में ईदुल अजहा के मौके पर ये जघन्य कांड अंजाम दिया गया था. जिसमे मोहम्मद अखलाक की कथित भगवा भीड़ के हाथों अखलाक की हत्या हुई थी. और उसका बेटा दानिश बुरी तरह जख्मी हुआ था.

Loading...