पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल और राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के पोते गोपाल कृष्ण गांधी ने असहिष्णुता का मुद्दा उठाते हुए केंद्र की मोदी सरकार को निशाने पर लिया हैं. उन्होने कहा कि आज देश में डर का माहौल हैं.

उन्होंने कहा, देश में आज़ादी के प्रकाश के बाद आज फिर अंधकार है. उन्‍होंने कहा कि चम्पारण के 100 साल बाद, आज़ादी के 70 साल बाद देश में प्रकाश है, देश आज़ाद है लेकिन आज प्रकाश में अंधकार है. और जब पूर्व में बिहार ने अंधकार में प्रकाश दिखाया है तो आज भी बिहार ही प्रकाश दिखाएगा. ये काम बार-बार बिहार ने किया है.

गोपाल कृष्णा गांधी ने कहा कि 1977 में जिस तरह जयप्रकाश ने देश में लोकतंत्र के लिए आंदोलन को पुनर्जीवित किया उस तरह शयद किसी ने नहीं किया है. उन्होंने कहा कि जयप्रकश का आंदोलन केवल परछाई नहीं बल्कि आज भी जीवंत है और आज उनकी आवश्‍यकता है. गोपाल गांधी ने फिर नीतीश कुमार के भाषण की तारीफ करते हुए कहा कि उस आवश्‍यकता को साकार होते हुए आज मैंने नीतीश बाबू के भाषण में देखा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कृषि मंत्री को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा कि  मौजूदा कृषि मंत्री बिहार से हैं, लेकिन आज कृषि की दुनिया में संकट है. किसान आत्महत्या कर रहे हैं. लोगों की जमीन छीनी जा रही है. बीज नहीं मिल रहे हैं. उद्योग की नजर हमेशा गलत नहीं होती, लेकिन आज जमीन पर कई तरह की निगाहें हैं. जमीन खतरे में है.

भूमि अधिग्रहण अधिनियम की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर बार-बार अध्यादेश लाने की कोई जरुरत नहीं जो एक तरह से जुल्म और जबरदस्ती का परिचायक है.

Loading...