महाराष्ट्र के जलगांव में बेहद ही शर्मनाक मामला सामने आया है। जलगांव के एक गर्ल्स हॉस्टल में जांच के नाम पर घुसे पुलिस वालों ने लड़कियों के कपड़े उतरवाकर उनसे जबरन डांस कराया। मामले का एक वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

यह मुद्दा आज विधानसभा बजट सत्र के तीसरे दिन सदन में भी उठाया गया। जिसके बाद महाराष्ट्र सरकार ने मामले में एक उच्च-स्तरीय जांच समिति बनाई है। समिति को दो दिन में अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। गृह मंत्री अनिल देशमुख ने इस मामले पर कठोर और निष्पक्ष कार्रवाई का भरोसा भरोसा दिया है।

बीजेपी नेता सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि अब महाराष्ट्र में अपराधियों के हौसले सातवें आसमान पर हैं और ऐसा लगता है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने का समय आ चुका है। उन्होंने कहा कि जिस तेजी से महिलाओं और बच्चियों के साथ बलात्कार और छेड़खानी की घटनाएं सामने आ रही हैं वह बेहद ही खतरनाक हैं।

बताया जा रहा है कि यह हॉस्टल महिला और बाल कल्याण विभाग द्वारा चलाया जाता है। इससे संबंधित एक वीडियो कलेक्टर अभिजीत राउत को भी सौंपा गया है। अभिजीत राउत ने इस मामले की जांच के आदेश जारी किए हैं।

विधानसभा में नेता विपक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी मामले को गंभीर बताते हुए सरकार से जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की।

उन्होंने कहा कि घटना की वीडियो क्लिप जिस तरह से वायरल हुई है, उसे देखते हुए सरकार को इस मामले को संवेदनशीलता से लेना चाहिए और जल्द से जल्द कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि लोकतंत्र में सरकार बर्खास्त करने की मांग करना विपक्ष का अधिकार होता है।