महाराष्ट्र में किसानों की खराब माली हालत से पूरी दुनिया रूबरू है. देश में सबसे ज्यादा किसानों के आत्महत्या के मामले महाराष्ट्र से ही जुड़े है. ऐसे में अब महाराष्ट्र के कुछ किसानों ने अपने गांव को तेलंगाना में शामिल करने की गुहार लगाई है.

नांदेड़ जिले के बबली गांव के किसानों ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव को खत लिखकर कहा कि उनके गांवों को तेलंगाना में शामिल कर लिया जाए. बता दें कि बबली गांव तेलंगाना बॉर्डर के बिल्कुल पास स्थित है.

किसानों की इस मांग के पीछे तेलंगाना की चंद्रशेखर राव सरकार ने हाल ही में किसानों के लिए एक योजना रायतु बंधु स्कीम (किसानों का दोस्त) है. जिसके तहत सरकार किसानों को प्रति हेक्टर हर साल 8000 रुपये की सरकारी सहायता उपलब्ध करा रही है.

इतना ही नहीं रबी की फसल के लिए अलग से 4000 रुपये प्रति हेक्टेयर की मदद भी की जा रही है यानी तेलंगाना सरकार साल में दो बार किसानों को वित्तीय मदद पहुंचा रही है. तेलंगाना सरकार के इस स्कीम से प्रदेश के करीब 58 लाख किसानों को फायदा पहुंचने की उम्मीद है.

इतना ही नहीं तेलंगाना सरकार ने राज्य के किसानों का लोन भी माफ किया है साथ ही 24 घंटे मुफ्त बिजली और 5 लाख रुपये की बीमा का लाभ भी उन्हें दिया जा रहा है.  इस स्कीम का फायदा उठाने के लिए धर्माबाद तलुका सरपंच असोसिएशन के प्रेसीडेंट ने अपने गांवों को तेलंगाना में शामिल करने का अनुरोध किया है.

इसके अलावा धर्माबाद तलुका के बबली गांव की सरपंच इस बाबत टीआरएस की सांसद कविता से मिलीं. तब वह अपने क्षेत्र में इस स्कीम के चेक और पासबुक बांट रही थीं.

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन