gwa

gwa

ग्वालियर के जयारोग्य चिकित्सालय समूह के कमलाराजा अस्पताल में बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है. रविवार की रात को गलत तरीके से इंजेक्शन लगाने से करीब  5० प्रसूताओं की हालत बिगड़ गई. इस दौरान कोई डॉक्टर भी मौजूद नहीं था.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, नर्सिंग स्टाफ द्वारा इंजेक्शन लगाने के बाद महिलाओं का सर्दी लगने के साथ ही दम घुटने लगा. जिसे देख परिजन घबरा गए. इस दौरान जब डॉक्टरों से संपर्क करने की कोशिश की गई तो कोई सीनियर डॉक्टर ड्यूटी पर मौजूद नहीं था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

परिजनों ने सीनियर डॉक्टर न होने पर हंगामा मचाना शुरू कर दिया. हंगामा बढ़ता देख इंजेक्शन लगने के करीब एक घंटे बाद प्रभारी विभागाध्यक्ष डॉॅ. वृन्दा जोशी, डॉ. यशोधरा गौर, डॉ. अर्चना मौर्य एवं जयारोग्य के प्रभारी सहायक अधीक्षक डॉ. संजय सिंह चंदेल वार्ड में पहुंचे और स्थिति को देख पांच महिलाओं को तत्काल आईसीयू में रैफर किया .

मौके पर पहुंची पुलिस ने बताया कि 5 गंभीर महिलाओं को आईसीयू में रैफर किया गया, जिनमें से दो की हालत काफी खराब है. ध्यान रहे  नर्सों ने मरीजों को एम्पीसिलिन इंजेक्शन लगाया था, इस इंजेक्शन को नार्मल सिलाइन के साथ दे दिया गया था, जिससे महिलाओं की हालात बिगड़ना शुरु हुई.

नियमानुसार, एमपी सिलिंन इंजेक्शन नियमानुसार डिस्टल वॉटर के साथ दिया जाता है. इससे पहले भोपाल में नार्मल सिलाइन के साथ एम्पीसिलिन इंजेक्शन लगाने से कुछ लोगों की मौत हो गई थी.

Loading...