BJP MLA अशोक सिंह चंदेल सहित 10 को उम्र कैद, विधायक कोर्ट से फरार

10:51 am Published by:-Hindi News

नई दिल्ली:  हमीरपुर से भारतीय जनता पार्टी के विधायक अशोक सिंह चंदेल को बड़ा झटका लगा है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने हत्या के एक मामले में अशोक सिंह चंदेल को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. अशोक सिंह चंदेल के साथ-साथ 10 और लोगों को भी आजीवन कारावास की सजा हाईकोर्ट ने सुनाई है.  सजा की घोषणा होते ही विधायक अशोक सिंह चंदेल कोर्ट परिसर से फरार हो गया.

राज्य सरकार और शिकायतकर्ता राजीव शुक्ला की अपील आंशिक रूप से स्वीकार करते हुए न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा और न्यायमूर्ति दिनेश कुमार सिंह की खंडपीठ ने हमीरपुर के अपर सत्र न्यायाधीश के 15 जुलाई, 2002 के निर्णय को पलट दिया जिसमें चंदेल सहित सभी 10 आरोपियों को बरी कर दिया गया था. राज्य सरकार और शिकायतकर्ता राजीव शुक्ला ने जिला और सत्र न्यायाधीश के निर्णय को चुनौती दी थी.

गौरतलब है कि 26 जनवरी, 1997 को हमीरपुर में स्थानीय बीजेपी नेता राजीव शुक्ला और अशोक सिंह चंदेल के बीच मामूली कहासुनी हो गई थी जो बड़े झगड़े में बदल गई और गोलीबारी हुई जिसमें शुक्ला के दो बड़े भाई राकेश, राजेश और नौ वर्षीय भतीजे अंबुझ, वेद नायक और श्रीकांत पांडेय की मौत हो गई थी.

bjp

इस घटना में दो बच्चों समेत और पांच लोग गोली लगने से घायल हुए थे जिसके लिए अशोक चंदेल एवं अन्य नौ लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी. इस मामले की जांच के बाद पुलिस ने चंदेल एवं अन्य नौ लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था.

लंबे मुकदमे के दौरान 15 जुलाई, 2002 को अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा चंदेल समेत सभी 10 लोगों को इस आधार पर बरी कर दिया गया था कि गवाहों के बयान संदेहपूर्ण हैं. इस निर्णय को राजीव द्वारा उच्च न्यायालय में चुनौती दी गई.

बर्खास्त किए जा चुके जज

सामूहिक हत्या के बहुचर्चित मुकदमे का विचारण तत्कालीन सत्र न्यायाधीश अश्विनी कुमार की अदालत में हुआ था. आरोपितों को दोषमुक्त देने वाले जज को पहले ही बर्खास्त किया जा चुका है.

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें