मध्य प्रदेश के रतलाम (Ratlam) में एक वकील को एक महिला जज को अभद्र भाषा में बर्थडे मैसेज भेजना महंगा साबित हुआ है. आरोपी वकील अब जेल की सलाखों के पीछे है.

जानकारी के अनुसार, 37 वर्षीय वकील विजय सिंह यादव पर आरोप है कि उन्होंने कथित तौर पर एक ज्यूडिशिएल मजिस्ट्रेट फर्स्ट क्लास (JMFC) के फेसबुक अकाउंट से उनकी तस्वीर डाउनलोड की और जन्मदिन के मौके पर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने का आरोप है.

मामले में दर्ज प्राथमिकी में कहा गया है कि आरोपी विजय सिंह यादव ने कथित तौर पर बिना  सहमति के फेसबुक अकाउंट से जज की एक प्रोफ़ाइल तस्वीर डाउनलोड की और उसे “अश्लील संदेश” के साथ ग्रीटिंग के हिस्से के रूप में भेजा.

रतलाम जिला न्यायालय के सिस्टम अधिकारी महेंद्र सिंह चौहान की शिकायत के आधार पर 8 फरवरी को स्टेशन रोड पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई थी. वकील को प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए धोखाधड़ी, जालसाजी और आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है.

विजय सिंह शादीशुदा हैं और उनके चार बच्चे हैं. उनके भाई जय ने बताया कि विजय को पुलिस ने घर से गिरफ्तार कर लिया था. विजय इस मामले में अपनी बहस खुद कर रहे हैं. 9 फरवरी को उनकी गिरफ्तारी हुई थी और 13 फरवरी को एक लोअर कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी थी.

विजय की परिजनों ने अब मध्य प्रदेश हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. इस मामले की सुनवाई 3 मार्च को होनी है. उन्होंने याचिका में यह भी दावा किया है कि उन्होंने एक सामाजिक कार्यकर्ता और जय कुल देवी सेवा समिति, रतलाम के अध्यक्ष के रूप में जन्मदिन की शुभकामनाएं भेजी थीं.