gango

gango

पटना: राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पर मुसीबतों का जो सिलसिला शुरू हुआ है. वह रुकने का नहीं ले रहा है. चारा घोटाले में लालू के सज़ा के ऐलान से उनकी बड़ी बहन गंगोत्री देवी को बड़ा सदमा लगा. जिसके चलये उनकी मौत हो गई.

85 साल की गंगोत्री देवी लालू के जेल से छूटने का इंतजार कर रही थी। पिछले कई दिनों से लालू के रिहा होने के लिये पूजा पाठ भी कर रही थीं. इसी बीच आज उनका निधन हो गया. पूर्व सीएम राबड़ी देवी, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव, विधायक तेजप्रताप यादव, लालू प्रसाद के बडे भाई बड़ी बहन के चपरासी क्वार्टर स्थित आवास पर पहुंचे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

राबड़ी देवी अपनी नंद का शव देख आंसू नहीं रोक पाई और काफी देर तक रोती रहीं. तेजस्वी और तेजप्रताप भी बुआ को अंतिम विदाई देते हुए रोने लगे. दोनों ने बुआ के शव पर शाल भी उड़ाई। गंगोत्री देवी अपने बच्चों के साथ यहां पर ही रहती थी.

लालू की बड़ी बहन गंगोत्री देवी का ससुराल गोपालगंज के पंचदेवरी ब्लाक के कटेया थाना के चक्रपाणि गांव में था. 2010 में उनके पति जगधारी चौधरी का निधन हुआ था. गंगोत्री देवी के तीन लड़के हैं बैदनाथ यादव, रूदल यादव और बलिस्टर यादव. इनमे बड़े लड़के बैजनाथ यादव की 2016 में मौत हो चुकी है. जगधारी चौधरी और  वैदनाथ यादव के निधन के समय लालू प्रसाद हेलीकॉप्टर से पंचदेवरी गए थे.

विदित हो कि लालू प्रसाद यादव की इकलौती बहन गंगोत्री देवी पटना के वेटनरी कॉलेज स्थित उसी सर्वेंट क्वार्टर में रहतीं थीं, जिसमें 1990 में मुख्‍यमंत्री बनने के बाद रहकर लालू प्रसाद ने छह महीने तक सरकार चलाई थी.

Loading...