burhan

burhan

महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसा की आग अब मध्यप्रदेश तक पहुँच चुकी है. प्रदेश का बुरहानपुर शहर इस घटना के विरोध में बंद रहा. लेकिन बंद के दौरान प्रदर्शनकारियों ने जमकर उत्पात मचाया.

ये बंद दलित संगठनों और कांग्रेस ने मिलकर बुलाया था. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने बस स्टैंड पर 10 से ज्यादा बसों में तोड़फोड़ की. ध्यान रहे बुरहानपुर जिला महाराष्ट्र की सीमा से जुड़ा हुआ है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

घटना के बाद से ही बुरहानपुर में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ है. महाराष्ट्र जाने वाली बसों की आवाजाही पूरी तरह से बंद है. हालांकि अब तनाव को देखते हुए शहर में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

ध्यान रहे 1 जनवरी 1818 के दिन ईस्ट इंडिया कंपनी की और से महारों की पेशवाओं की जीत के उपलक्ष्य में सोमवार को एक कार्यक्रम रखा गया था. जिसमे हिस्सा लेने जा रहे दलितों पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया था. इस हमले के में एक शख्स की भी मौत हो गई.

इस कार्यक्रम में दलित नेता एवं गुजरात से नवनिर्वाचित विधायक जिग्नेश मेवाणी, जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद, रोहित वेमुला की मां राधिका, भीम आर्मी अध्यक्ष विनय रतन सिंह और पूर्व सांसद एवं डा. भीमराव अंबेडकर के पौत्र प्रकाश अंबेडकर भी उपस्थित थे.

कार्यक्रम में हिंसा को लेकर विधायक जिग्नेश मेवाणी, जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. इसके अलावा दो हिंदुत्ववादी नेताओं, समस्त हिंदू अगाड़ी के मिलिंद एकबोटे और शिव प्रतिष्ठित हिंदुस्तान के संभाजी भिंड के खिलाफ भी आपराधिक मामला दर्ज किया गया.

Loading...