babri masjid

babri masjid

शिया वक्फ बोर्ड के बाद अब अयोध्या में बाबरी मस्जिद की जगह राम मंदिर बनाने को लेकर किछौछा दरगाह से भी सुन्नी धर्मगुरु ने आवाज उठाई है.

किछौछा दरगाह के धर्मगुरू मो. इरफान ने यूनीवार्ता से बातचीत करते हुए मंगलवार को कहा कि शिया वक्फ बोर्ड ने उच्चतम न्यायालय में शपथ पत्र दाखिल करके विवादित जमीन पर राम मंदिर का निर्माण होना चाहिये. उन्होंने कहा कि उसी तरह मेरा भी प्रयास है कि सुन्नी समुदाय के धर्मगुरू भी अदालत में शपथ पत्र दाखिल करके मंदिर के पक्ष में निर्णय लें.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इरफान ने कहा कि विवादित जमीन पर राम मंदिर का निर्माण होना चाहिये जबकि मस्जिद उससे कुछ दूरी पर मुस्लिम इलाके में बनायी जानी चाहिये. उन्होंने कहा कि मंदिर मस्जिद का विवाद आपसी सुलह समझौते से होना चाहिये जिससे अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो सके. क्योंकि अयोध्या भगवान श्री राम की जन्मस्थली है.

सुन्नी धर्मगुरु का कहना है कि विवादित भूमि पर मस्जिद नहीं बन सकती है और अल्लाह को भी वहाँ पर की गयी इबादत कबूल नहीं होती इसलिये हिन्दू मुसलमान दोनों मिलकर भव्य मंदिर का निर्माण चाहते हैं.

उन्होंने कहा कि मैं सुन्नी धर्म गुरुओं के सम्पर्क में हूँ और कई जगह मैंने जा करके इस सम्बन्ध में बातचीत की है जिससे इस विवाद को अदालत के माध्यम से ही हल किया जा सके. उन्होंने कहा, यदि मस्जिद बनाई जाए तो ‘अमन के नाम से, बाबर के नाम से नहीं. बाबर आक्रांता था और वह मुस्लिम समाज का आदर्श नहीं हो सकता.

Loading...