Thursday, July 29, 2021

 

 

 

खट्टर सरकार के खिलाफ जाटों ने मनाया ‘काला दिवस’, आंदोलन भी हुआ हिंसक

- Advertisement -
- Advertisement -

हिसार: आरक्षण व अन्य मांगों को लेकर जाट समुदाय ने राज्य की बीजेपी शासित खट्टर सरकार के खिलाफ एक बार फिर से मौर्चा खोलते हुए 26 फरवरी यानि रविवार को पुरे हरियाणा में काले दिवस के रूप में मनाया. इस दौरान हिसार में रामायण रेल ट्रेक के निकट धरना स्थल पर 15000 आंदोलनकारियों का सैलाब उमड़ा.

शनिवार शाम से ही रोहतक, सोनीपत, पानीपत और भिवानी में जहां इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं. वहीं रविवार सुबह 11 बजे हिसार में भी इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई. इसके अलावा कई जगह ट्रैफिक रूट भी डायवर्ट किए गए हैं. हाईवे और शहरों के मुख्य चौक-चौराहों पर भारी सुरक्षा बल तैनात हैं. इस दौरान आयोजित धरने में प्रदर्शनकारियों के साथ बड़ी संख्या में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हुए.

प्रदर्शनकारियों ने अपनी मांग को लेकर सरकार की उदासीनता के खिलाफ काली पगड़ी, टोपी और हाथों में काली पट्टी बांध रखी थी. शिक्षा और सरकारी नौकरियों में अन्य पिछड़ा वर्ग श्रेणी में आरक्षण दिए जाने की मांग के साथ ही जाट चाहते हैं कि पिछले साल हुए आंदोलन के दौरान जेल में बंद किए गए लोगों को रिहा किया जाए, उन पर दर्ज मामले वापस लिए जाएं. जाट चाहते हैं कि प्रदर्शन के दौरान मारे गए और घायल हुए लोगों के रिश्तेदारों को सरकारी नौकरी दी जाए.

ये भी खबर हैं कि जब दोपहर में आंदोलन चल रहा था तो हरियाणा में आंदोलन स्थल पर रामपाल समर्थक आ पहुंचे. जिन्हें मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने खदेड़ दिया. कुछ समय बाद आंदोलनकारी उग्र हो गए और उन्होंने दिल्ली सिरसा रेलवे ट्रैक पर रामायण गांव के समीप फाटक को भी तोड़ दिया.

अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने रेल फाटक तोड़े जाने को बीजेपी की शरारत बताया है. संघर्ष समिति के जिलाध्यक्ष कृष्ण किरमारा ने कहा कि बीजेपी द्वारा भेजे गए शरारती तत्वों ने रेल फाटक को तोड़ा है. संघर्ष समिति के प्रदेश प्रवक्ता रामभगत मलिक ने कहा कि 1 मार्च को होने वाले दिल्ली कूच के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. इस असहयोग आंदोलन के दौरान एक दिन के लिए दिल्ली की दूध और सब्जियों की सप्लाई बंद कर दी जाएगी.

मलिक ने कहा कि जेलों में बंद जाट समाज के निर्दोष युवकों को जब तक रिहा नहीं किया जाता और आरक्षण समेत अन्य मांगें नहीं मान ली जातीं, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles