nikah_paper_signing

मध्यप्रदेश के खंडवा शहर के 21 मस्जिदों के इमामों ने मुस्लिम समाज में बढती खुराफाती रस्मों पर रोक लगाने का फैसला लेते हुए शादी, ब्याह में बैंड ,डीजे और ढोल पर रोक लगा दी हैं.

अबु हनीफ़ा फाउंडेशन खंडवा की और से शहर के सुन्नी उलेमाओं का ध्यान इस और दिलाया गया था, जिसके बाद शहर की 21 मस्जिदों के इमामों ने संयुक्त रूप से फैसला लेते हुए कहा कि अगर किसी बरात में ऐसा हुआ तो इमाम निकाह नहीं पढ़ाएंगे.

फाउंडेशन के प्रवक्ता फैज़ान क़ादरी ने बताया शहर में लगभग 40 हजार मुस्लिम परिवार हैं. इनमें हर साल करीब 150 निकाह होते हैं. कुछ परिवारों द्वारा शादी में फिजूलखर्ची की जा रही थी. बैंड-बाजे और डीजे बजाया जा रहा था. फिजूलखर्ची रोकने के लिए फाउंडेशन ने प्रस्ताव इमामों के समक्ष रखा.अब शादी पारंपरिक तरीके से ही होगी.

इस बारें में शहर काजी सैय्यद अंसार अली ने बताया यह निर्णय स्वागत योग्य है. बैंड-बाजे और डीजे पर प्रतिबंध होने से समाज के लोग बहुत सी बुराइयों से बचेंगे.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें