lpp

lpp

मुसीबतों में परेशान हाल लोगों की मदद करने वाली खालसा एड के रोहिंग्या मुस्लिमों को लेकर किये गए कामों को लुधियाना में सराहा गया.

म्यांमार के राखिने से जारी हिंसा के बीच 25 अगस्त के बाद लाखों की तादाद में रोहिंग्या मुस्लिम भूखे-प्यासे सीमा पार कर बांग्लादेश पहुंचे थे. ऐसे में खालसा एड ने सीमा पर पहुँच कर उनके लिए लंगर चलाकर खाने-पीने का इंतजाम किया. आज लुधियाना की जामा मस्जिद में खालसा एड के कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

lpp1

इस दौरान जामा मस्जिद के शाही इमाम हबीब उर रहमान ने खालसा एड संगठन को रोहिंग्या रिफ्यूजी रिलीफ फंड के लिए 8,32,000 रूपये दिए और उनके इस इंसानियत के जज्बे के लिए शुक्रिया अदा किया.

सिखएड संस्था का गठन मानवीय आपदाओं में सेवा के लिए किया गया है. यूके से इसने काम शुरू किया. रवि सिंह इसके फाउंडर सीईओ हैं. ये 1999 से काम कर रही है. इससे पहले ग्रीस के रिफ्यूजियों, नेपाल भूकंप, मलावी, लेबनान, हैती भूकंप में सेवा की थी। आतंकवादी हमलों के पीड़ितों को इसने सेवाएं दी थीं.

Loading...