ashita

ashita

केरल के हिन्दू धर्म वापसी केंद्र में महिलाओं को प्रताड़ित करने के आरोप हमेशा से ही लगते आए है. ऐसे में कन्नूर की एक महिला ने महीनों तक केंद्र में याताना देने का गंभीर आरोप लगाया है.

धर्मदों नामक एक छोटे से शहर की बीस वर्षीय अशिता लक्ष्मी का आरोप है कि 6 महीने पहले हिंदू हेल्पलाइन कार्यकर्ताओं द्वारा उसे जबरन योग केंद्र में लाया गया था. इस दौरान उसके साथ मारपीट की गई.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

द न्यूज़ मिनिट से बातचीत में नर्सिंग स्नातक अशिता का कहना है कि योग प्रशिक्षण केंद्र में योग के बजाय ज़बरदस्ती धर्म वापसी कराई जाती है. इस्लाम या ईसाई धर्म अपनाने पर उन्हें पीट-पीट कर फिर से हिन्दू धर्म अपनाने के लिए मजबूर किया जाता है. अशिता ने कहा कि मारपीट के  बारें में किसी को पता न लगे, इसलिए तेज आवाज में म्यूजिक चालु कर पिटाई की जाती है.

वन अधिकारी की बेटी आशिता को नर्सिंग करने के दौरान सुहाब नाम के एक पत्रकार से प्यार हो गया था. जिसके बाद दोनों ने शादी का फैसला किया. आशिता के परिजन मुस्लिम युवक से शादी करने को लेकर तैयार नहीं थे. ऐसे में उन्होंने 29 जनवरी को, अशिता को जबरन त्रिपुनीथुरा के उदयम्पर में शिव शक्ति योग विद्या केंद्र में छोड़ दिया.

इस मामले में अशिता ने अब अदालत का दरवाजा खटखटाया है. अशिता की और से योगा केंद्र के 11 अभियुक्तों के खिलाफ दायर एक आपराधिक मामला दर्ज कराया गया है.

Loading...