केरल में लापता हुई हिंदू लड़की के इस्लाम अपनाने और फिर आतंकी संगठन आईएस से जोड़े जाने को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. लड़की ने सामने आकर कोर्ट के समक्ष गवाही दी कि उसने अपनी मर्जी से इस्लाम अपनाया और उसका आईएस से जुड़े होने का आरोप बेबुनियाद है.

केरल हाईकोर्ट के समक्ष आथिरा ने कहा कि अगर उसके माता-पिता उसके धार्मिक मामलो में दखलंदाजी नहीं देंगे तो वह उनके साथ रहने को तैयार है. ऐसे में माता-पिता ने वादा किया था कि वह अथिरा का इस्लामिक मामलों में उसकी रूचि को लेकर कोई हस्तक्षेप नहीं होने देंगे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आथिरा ने कोर्ट को बताया कि वह इस्लाम के प्रति आकर्षित होने की वजह से मुस्लिम बनी है. घर छोड़ने के बाद वह कन्नूर में अपने एक दोस्त के साथ रह रही थी. उसने कहा कि मुझ पर कई आरोप लगाए गए कि मैं आईएस में शामिल हो गई हूं. मैंने अपना पासपोर्ट भी नहीं लिया है. अथिरा ने कहाकि मेरा नाम आईएस से जोड़े जाने से मैं थोड़ा परेशान हीं लेकिन आईएस से मेरा कोई संबंध नहीं है.

गौरतलब रहें कि 10 जुलाई को आथिरा ने कारागांव जिले के उदुमा में अपना घर छोड़ दिया था,  अथिरा ने 27 जुलाई को कन्नूर में पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था जिसके बाद उसे हॉस्दुर्ग अदालत ने एक वूमेन्स हाउस भेज दिया था.

Loading...