केरल हाईकोर्ट ने बीसीसीआई को क्रिकेटर एस.श्रीसंत से आजीवन प्रतिबंध हटाने का आदेश दिया है.  श्रीसंत पर यह प्रतिबंध आईपीएल-6 (2013 ) स्पाट फिक्सिंग प्रकरण में लिप्त पाए जाने पर लगा था.

श्रीसंत के इस साल केरल के एर्नाकुलम क्लब के दो दिनी फर्स्ट डिवीजन मैच से वापसी की खबरे थीं. लेकिन बीसीसीआई ने उन्हें इसके लिए एनओसी नहीं दी. हालांकि 2015 में दिल्ली अदालत ने उन्हें बेकसूर करार दिया था, बावजूद बीसीसीआई ने श्रीसंत से बैन नहीं हटाया था, जिसके बाद उन्होंने केरल कोर्ट में बोर्ड के खिलाफ याचिका दायर की थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बीसीसीआई के बैन को चुनौती देते हुए श्रीसंत ने हाई कोर्ट में दलील दी थी कि प्रतिबंध न हटाना उनके अधिकारों का उल्लंघन करना है. उन्होंने कहा, ‘जब मेरे आजावीन प्रतिबंध के बारे में कोई आधिकारिक लेटर नहीं है, तो क्यों अंपायर मुझे खेलने से रोकेंगे?

उन्होंने कहा, जब मैं तिहाड़ जेल में था, तो मुझे सिर्फ एक सस्पेंशन लेटर मिला था. सस्पेंशन लेटर सिर्फ 90 दिनों के लिए वैध होता है. आज तक कोई (बैन को लेकर) आधिकारिक संवाद नहीं हुआ है. मैं बेवकूफ था जो इतने दिनों तक क्रिकेट नहीं खेला. मेरे साथ आंतकवादी से भी ज्यादा खराब व्यवहार किया गया.’

Loading...