shahji

कोच्चि: केरल हाई कोर्ट ने इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के विधायक के. एम. शाजी को अयोग्य घोषित कर दिया है। अदालत ने उन्हें 2016 के विधानसभा चुनाव में जीतने के लिए धर्म का इस्तेमाल करने का दोषी पाते हुए शुक्रवार को अयोग्य करार दिया।

आझिकोड विधानसभा सीट से 2016 में जीत हासिल करने वाले के. एम. शाजी को 6 साल के लिए अयोग्य घोषित करते हुए जस्टिस पी. डी. रंजन ने केरल विधानसभा के अध्यक्ष और निर्वाचन आयोग को उचित कार्रवाई करने को कहा। शाजी के खिलाफ लेफ्ट विधायक एमवी निकेश कुमार ने एक याचिका दाखिल की थी।

कुमार का आरोप है कि शाजी ने उनके खिलाफ वोट न करने के लिए पैंपलेट बांटे थे। कुमार ने अपनी याचिका में कहा कि शाजी ने सांप्रदायिक ध्रुवीकरण किया है। हाईकोर्ट ने आजीकोड़ विधानसभा सीट के लिए दोबारा चुनाव कराने का आदेश दिया है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, निकेश इस चुनाव में केएम शाजी के बाद दूसरे नंबर पर थे, इसलिए उन्होंने यह भी याचिका डाली थी कि उन्हें इस सीट से विजेता घोषित किया जाए। हालांकि उनकी इस याचिका को अदालत ने खारिज कर दिया।

राज्य में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष यूडीएफ का हिस्सा है। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग का कहना है कि फैसले की प्रति मिलने के बाद वह इसके खिलाफ अपील पर फैसला करेंगे।

Loading...