केरल के कनहंगड स्थित सीके नायर आर्ट्स और मेनेजमेंट कॉलेज में उस वक्त जमकर बवाल मच गया जब कॉलेज प्रशासन ने कैंपस में मुस्लिम छात्राओं को बुरका पहनकर आने की अनुमति दे दी. जिसके बाद कॉलेज में कक्षाओं को भी रद्द करना पड़ा.

कॉलेज के प्रिंसिपल ए सी कुंिक्कनन नायर ने बताया कि इस सबंध में छात्रों के पेरेंट्स के साथ शनिवार को एक मीटिंग रखी गई है. हालांकि इस बीच उन्होंने कॉलेज में क्लासेस फिर से शुरू होने की उम्मीद जताई. उन्होंने बताया, बुधवार कॉलेज में सिविल ड्रेस पहन कर आने की अनुमति दी गई थी.

साथ ही उन्होने ये भी कहा कि हालांकि, परिसर में चेहरे को कवर करने वाला बुरका, कोलायरलेस टी-शर्ट, लेगिंग्स, और लाल, हरी तथा केसरिय लंगिन्स पहनकर आने की अनुमति नहीं दी गई थी. दरअसल, बुधवार को बीए के अंग्रेजी क्लास की छात्राएं कक्षा में बुरका पहन कर आई थी. इस दौरान टीचर ने बुर्के को ड्रेस कोड के खिलाफ बताते हुए चार महिलाओं को  क्लास में आने की अनुमति नहीं दी. ये  चारो छात्रा मुस्लिम स्टूडेंट फेडरेशन (एमएसएफ), इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) और नेशनल स्टूडेंट लीग (एनएसएल) की  सदस्य है.

कॉलेज प्रशासन के इस फैसले के खिलाफ स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने काउंटर विरोध मार्च आयोजित किया. सएफआई ने आरोप लगाया कि जिला केरल छात्र संघ के नेताओं के नेतृत्व में छात्रों के एक समूह ने उसके तीन सदस्यों पर हमला किया. पुलिस शिकायत में कहा गया, इस हमले में एसएफआई यूनिट के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष मोहम्मद शिबिल (21), और सदस्य नितिन चंद्रन (21) और श्रीहरी (21) घायल हो गए.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?