उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के खेलम गांव में कांवड़ यात्रा के चलते 70 मुस्लिम परिवार ने गांव छोड दिया है। दरअसल, पुलिस ने इन परिवारों को ‘लाल कार्ड’ जारी किया है। ये कार्ड उन लोगों को जारी किया गया है। जिन पर पुलिस को शक है कि ये कांवड़ यात्रा में बाधा उत्पन्न करेंगे।

पुलिस 250 मुस्लिम-हिन्दू लोगों को ये कार्ड जारी कर चुकी है। इसके अलावा पुलिस ने 441 ऐसे स्थानीय लोगों की पहचान की है जो पुलिस की नजर में समस्या पैदा कर सकते हैं। पुलिस ने ऐसे लोगों से ‘सांकेतिक’ 5 लाख रुपये के बॉन्ड पर हस्ताक्षर करवाए हैं। जिसकी वजह से अब 70 मुस्लिम परिवारों ने गांव छोड़ दिया है।

पुलिस द्वारा लगातार चलाये जा रहे सर्च ऑपरेशन से मुस्लिम परिवार घबराये हैं। 5000 की आबादी वाले इस गांव की 70 फीसदी आबादी मुसलमानों की है। मुस्लिम सड़क के दोनों किनारे पर रहते हैं, यहीं से कांवरिया लगभग 8 किलोमीटर रास्ता तय करते हैं और गुलेरिया गांव के एक मंदिर में पहुंचते हैं।

Courtesy: Lokbharat

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बरेली के एसएसपी मुनिराज जी ने कहा कि लाल कार्ड कानूनी रुप से वैध नहीं है, दोनों समुदायों से ज्यादातर लोग जिन्हें रेड कार्ड जारी किया गया है उन्हें बॉन्ड हस्ताक्षर करने को कहा गया है, ताकि उन्हें पता चल सके कि उनकी निगरानी की जा रही है।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि उन्हें नहीं पता है कि कुछ मुस्लिम परिवार गांव छोड़कर चले गये हैं। उन्होंने दावा किया कि हो सकता है वे अपने काम से गांव छोड़कर गये हैं। बरेली के डीएम ने कहा है कि लोगों को भरोसा दिलाया गया है कि अगर वो किसी तरह के फसाद में नहीं पड़ते हैं तो उन्हें झूठ-मुठ में नहीं फंसाया जाएगा।

Loading...