घाटी में कश्मीरी पंडितों और अन्य प्रवासियों की वापसी के लिए अनुकूल माहौल बनाने को लेकर जम्मू-कश्मीर विधानसभा ने गुरुवार को सर्वसम्मति से एक संकल्प पारित किया.

इस प्रस्ताव में कहा गया है कि घर वापसी करने वाले प्रवासियों के लिए घाटी में अनुकूल माहौल बनाया जाए. विधानसभा के सदन की कार्यवाही शुरू होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्‍दुल्‍ला ने कहा कि दलगत राजनीति से उपर उठकर विधानसभा को कश्मीरी पंडितों की वापसी के लिए एक संकल्प पारित करना चाहिए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अब्दुल्ला ने कहा, “आज 27 साल हो गए, जब घाटी से कश्मीरी पंडितों, सिखों और कुछ मुस्लिमों ने पलायन किया था. लिहाजा, हमें दलगत राजनीति से ऊपर उठकर आज उनकी घर वापसी के लिए एकजुट होना चाहिए.”

शून्य काल खत्म होने के बाद संसदीय कार्य मंत्री अब्दुल रहमान वीरी ने सदन में प्रस्ताव को लाने की मंजूरी दी. इसके बाद विधान सभा अध्यक्ष कविन्दर गुप्ता ने सदन में प्रस्ताव रखा जिसे पूरे सदन ने सर्वसम्मति से पास कर दिया.

Loading...