kshm

kshm

श्रीनगर: कश्मीरी मुसलमानों ने नफरत की राजनीति और सांप्रदायिक ताकतों को करारा जवाब देते हुए एक बाद फिर से धार्मिक सद्भाव, भाईचारगी, इंसानियत और कश्मीरियत की बेहतरीन मिसाल पेश की है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, शनिवार सुबह सेन्ट्रल कश्मीर के गंदरबल जिले में लार में एक कश्मीरी पंडित की मौत हो गई थी. जिसके बाद सेकड़ों की तादाद में मुसलमान न केवल उनकी शवयात्रा में शरीक हुए बल्कि उनका हिन्दू वैदिक रीति-रिवाजों के साथ अंतिम संस्कार भी किया.

इस मौके पर कुछ बुजुर्ग लोगों ने कहा कि कश्मीर हमेशा शांतिपूर्ण रहा है और कश्मीरीयत के लिए जाना जाता है. हम सदियों से एक साथ रह रहे हैं.

हालांकि ये पहला मामला नहीं है. कई बार ऐसे मौके सामने आए है. जब घाटी में कश्मीरी पंडितों की दिलों जान से स्थानीय मुस्लिमों ने मदद की है.

कश्मीर की महकती वादियों से निकलने वाली बारूद की गंध में प्यार, मुहब्बत और भाईचारे की ये एक अलग ही महक हैं जो दिल को एक अलग ही सुकून देती हैं. इस घटना से उन लोगों को सबक लेने की जरुरत है जो धर्म के नाम पर लोगों के दिलों में नफरत बोने में जुटे है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें