कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी को अब नगर निकाय चुनाव में भी करारी हार का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस ने अब तक 966 सीटों पर जीत दर्ज की वहीं, बीजेपी को 910 सीटों पर जीत मिली। जबकि जेडीएस अब तक 373 सीट जीतने में कामयाब रही है।

बता दें कि शहरी निकाय चुनावों में कांग्रेस के 2,306 उम्मीदवार, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 2,203 और जनता दल-सेकुलर (जेडी-एस) के 1,397 मैदान में थे। बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए कांग्रेस और जेडीएस ने गठबंधन किया था। कांग्रेस और जेडीएस ने मिलकर 1,339 सीटें जीती हैं।

कर्नाटक बीजेपी अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि नतीजे उम्मीद से ज्यादा खराब हैं। उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकार की वजह से पार्टी उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाई। हालांकि उन्होंने यह भी यकीन जताया कि लोकसभा चुनाव का परिणाम इससे काफी अलग होगा और बीजेपी बहुमत से जीतेगी।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने जीत पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “शहर के मतदाता ज्यादातर बीजेपी को वोट देते हैं लेकिन अभी तक जो परिणाम सामने आए हैं। उसके मुताबिक उन्होंने भी इस बार जेडीएस-कांग्रेस की गठबंधन सरकार का पूरा समर्थन किया है।

वहीं लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि कांग्रेस पीछे नहीं है कांटे की टक्कर है, और अगर आप धर्मनिरपेक्ष वोटों को जोड़ लें, तो वे सबसे ज़्यादा हैं। ये चुनाव छोटे मुद्दों पर स्थानीय प्रत्याशियों द्वारा लड़े गए थे, और इनका बहुत ज़्यादा महत्व नहीं है।”