उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को जाटो की और से करारा झटका मिला हैं. यूपी के जाटो ने बीजेपी को दंगाई पार्टी करार देते हुए वोट न देने की बात कही हैं.

8 जनवरी 2017 को उत्तर प्रदेश और हरियाणा से आए लगभग 35 खाप नेताओं ने मुजफ्फरनगर के खराड़ में एक सभा आयोजित की. जिसमे 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को वोट नहीं देने का ऐलान किया गया हैं. अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने इस बारें में कहा कि जाट समाज पश्चिमी उत्तर प्रदेश की 125 विधानसभा सीटों पर हरियाणा की गोली का बदला चुनाव में बटन दबा कर लेगे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि इन 125 विधानसभा क्षेत्रों में बीजेपी की जमानत जब्त करने का काम किया जाएगा. यशपाल ने बताया कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश की सभी जाट क्षेत्रों में आने वाली 125 विधान सभा सीटों पर प्रभारी नियुक्त कर दिए गए हैं तथा प्रचार समिति बना दी गई है. यशपाल के अनुसार, जाट समाज द्वारा हरियाणा में पुनः 29 जनवरी से धरनों की शुरुआत होगी.

365 खाप पंचायत के सर्व खाप के महामंत्री चौधरी सुभाष बालियान कहा “मोदी सरकार को लेकर जाटों में काफी गुस्सा है, इन्होंने जाटों को आरक्षण नहीं दिया और न ही अपने किसी विकास के वादे को पूरा किया. इस सरकार पर भरोसा कर वोट दिया था लेकिन आगे ऐसा नहीं होगा.” बालियान ने आगे कहा, “मुजफ्फरनगर दंगों ने बीजेपी को फायदा पहुंचाया लेकिन इसका अंजाम हमें भुगतना पड़ रहा है. हमारे बच्चे जेलों में बंद हैं. बीजेपी चाहती है कि हम बस बेवजह मुसलमानों से लड़ते रहें”

Loading...