Friday, September 17, 2021

 

 

 

जमीयत का ऐलान- ‘रात में मवेशी लेकर निकले तो समझे जाएँगे पशु तस्कर, नहीं की जाएगी मदद’

- Advertisement -
- Advertisement -

गौ रक्षकों के मामले तेज़ी से बढ़ रहे है, मामलों को मद्देनज़र रखते हुए उलमा-ए-हिंद ने एक बड़ा ऐलान किया है. संस्था के मौलवियों ने मेवात में पशुओं से जुड़े कारोबार करने वालों के लिए एक नई ऐडवाईज़री जारी की है. इसमें उन्होंने पशुओं को सभी ज़रूरी दस्तावेज़ के साथ ले जाने की बात कही है.

उलमा-ए-हिंद का कहना है कि ऐसा नहीं करने वालों के लिए जमीयत की तरफ से किसी भी तरह की मदद नहीं की जाएगी. जमीयत की ऐडवाईज़री जारी करने की वजह यह बताई जा रही है कि कुछ दिनों पहले मेवात का शख्स मवेशी ले जारा रहा था रास्ते में अलवर पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ की वजह से वह मारा गया था.

पिछले कुछ दिनों में ही अलवर में गोरक्षकों और मवेशियों को  ले जाने वालों लोगों  के बीच कई बार मुठभेड़ हुई है जिसमें अभी तक तकरीबन आधा दर्जन से ज्यादा घटनाएं सामने आ चुकी है. गो तस्‍करी से जुड़े कई मामले गलतफहमी की वजह से सामने आ रहे है. वहीँ जमीयत का कहना है आगे इस तरह के मामले न दोरायें जाएं इसके लिए लोगों को अपने साथ दस्तावेज़ रखने की ज़रूरत है.

ख़बरों के मुताबिक, जमीयत उलमा-ए-हिंद के नेताओं ने इस मसले को लेकर मंगलवार को एक बैठक का आयोजन किया था. इसमें राजस्‍थान, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और दिल्‍ली के कई नेता शामिल रहे. इस दौरान संस्‍था ने इलान किया कि रात में मवेशी ले जाने वाले लोगों को गौ तस्कर ही समझा जाएगा. एडवायजरी में डेयरी किसानों और मवेशियों के मालिकों को सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे के बीच पशुओं को ले जाने की हिदयत दी गयी है.

वहीँ जमीयत का कहना है कि दूसरे जिलों या राज्‍यों से मवेशी खरीदारों को भी यही सलाह दी गयी है कि वह रात को मवेशियों को न लेकर जाएँ. जमीयत ने साफ़ कह दिया है कि रात के वक़्त मवेशी ले जाने वालों के साथ अगर किसी भी तरह की दिक्कत पेश आती है तोह उनकी मदद नहीं की जाएगी.

वहीँ मेवात के समुदाय नेता मौलाना याहया करीमी का कहना है कि गाय रखने वाले लोग अपने पैसे और वक़्त बचाने की वजह से रात में सफ़र करना बेहतर समझते है और किमत उन्हें अपनी जान गवाकर देनी पडती है. बेगुनाह लोगों के मारे जाने के मामलों को इंसाफ दिलाने के लिए हम सुप्रीम कोर्ट में कानूनी लड़ाई लड़ेंगे. लेकिन, जमीयत नियमों के उल्‍लंघन या गाय को अवैध तरीके से ले जाने वालों की किसी भी तरह से मदद नहीं करेगा.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles