Thursday, August 5, 2021

 

 

 

आंध्र प्रदेश में जगन सरकार ने कई नेताओं को किया नजरबंद, जानिए क्या है कारण

- Advertisement -
- Advertisement -

देश में नागरिकता कानून को लेकर जमकर प्रदर्शन के बीच आंध्र प्रदेश में टीडीपी के दो नेताओं को कथित तौर विजयवाड़ा में नजरबंद किया गया। विजयवाड़ा पुलिस ने टीडीपी सांसद केसिनेनी श्रीनिवास और विधायक बुद्ध वेंकन्ना को गिरफ्तार किया था।

दरअसल, आंध्र प्रदेश में राजधानी को लेकर विवाद चल रहा है। मुख्यमंत्री जगदीश मोहन रेड्डी ने राज्य में तीन राजधानियों के लिए तीन जगहों को मंजूरी देने के लिए एक हाई-प्रोफाइल बैठक हुई। आंध्र प्रदेश की राजधानियों में अब करनूल, विशाखापट्टनम और अमरावती शामिल हैं। ऐसे में किसान और विपक्ष सड़क पर उतर आए हैं और जमकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

तेलुगु देशम पार्टी के मुखिया एन चंद्रबाबू नायडू ने पार्टी के सांसद केसिनेनी श्रीनिवास और विधायक बुद्धा वेंकन्ना की विजयवाड़ा में नजरबंदी पर कहा है कि आंध्र प्रदेश की वाईएसआरसीपी सरकार को अपने तानाशाही और दमनकारी रवैये के लिए भुगतना होगा। टीडीपी नेताओं की हिरासत को उन्होंने अलोकतांत्रिक बताया है।

टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने नेताओं की नजरबंदी को न केवल एकपक्षीय कार्रवाई बताया, बल्कि इस कार्रवाई को उन्होंने अंसवैधानिक भी बताया। चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि यह अलोकतांत्रिक है कि किसी जनप्रतिनिधि को नजरबंद रखा जाए। अमरावती परिक्षण समिति के संयुक्त एक्शन समिति में शामिल होने जा रहे नेताओं को रोक दिया गया।

चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि वाईएसआरसीपी सरकार 29 गावों के लोगों में तनाव पैदा कर रही है। हजारों लोगों को गांवों में तैनात किया गया है, पुलिस राज कायम कर दिया गया है। उन्होंने बीते 5 साल से चल रही राजधानी को विवादित बना दिया है।

बता दें कि दरअसल अमरावती के विकास के लिए अपनी जमीनें देने वाले किसानों और अन्य ग्रामीणों सहित 29 गांवों के लोग सड़कों पर उतरे थे। इन गांवों के किसान वाईएसआर कांग्रेस पार्टी सरकार से विशाखापत्तनम और कुरनूल को दो अन्य राज्य की राजधानियों के रूप में विकसित करने के प्रस्ताव को रद्द करने की मांग कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles