मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरुण यादव ने आरोप लगाया कि आईएसआई जासूसी कांड में पकड़ाये आरोपीयो को भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का खुला संरक्षण प्राप्त है. उन्होंने कहा कि ध्रुव सक्सेना भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी के इशारे पर प्रमुख लोगों के फोन रिकार्ड करता था.

यादव ने कहा कि प्रतिदिन ट्वीटर पर देशभक्ति के सर्टिफ़िकेट बाटने वाले विजयवर्गीय का असली चेहरा सामने आ गया है. वो उससे पीछा छुड़ाने के लिये बचकाने जवाब दे रहे है.  उन्होंने पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर मामले की जांच की मांग की है.

यादव ने बुधवार को डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला को पत्र लिखकर कहा कि किसी का भी टेलीफोन या मोबाइल फोन की रिकार्डिग किया जाना साइबर अपराध है और निजता को भंग करने वाला है. स मामले की सूक्ष्म जांच कराई जाए और यह भी पता लगाया जाए कि केंद्र व राज्य, दोनों जगह भाजपा की सरकार होने के बावजूद पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी को इस अनैतिक व अवैधानिक अपराध करने की जरूरत क्यों पड़ी.

यादव ने अपने पत्र में आरोपी ध्रुव सक्सेना द्वारा उपयोग में लाए गए उपकरणों और उसके राजनीतिक संबंधों की जांच कराने की मांग भी की है. उनका कहना है कि सक्सेना ने अब तक किन राजनेताओं व अधिकारियों के टेलीफोन व मोबाइलों की रिकार्डिग की है, और इसके एवज में उसे कितना भुगतान किया गया, इसकी भी जांच कराई जाए.

यादव ने पत्र में कहा है कि भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारी व सक्सेना की निकटता बहुत अधिक रही है और संबंधित पदाधिकारी से उसकी मुलाकातें भी होती रही हैं. लिहाजा, इस बात की जांच होनी चाहिए कि उसकी और संबंधित पदाधिकारी के बीच बिचौलिया कौन व्यक्ति था.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें