mandsaur mandi 31 05 2018

मध्यप्रदेश में पिछले साल छह जून को मंदसौर जिले में किसानों पर पुलिस जवानों द्वारा की गई फायरिंग और पिटाई में मारे गए सात लोगों की मौत के एक वर्ष पूरा होने पर किसानों ने शुक्रवार से 10 दिन के लिए आंदोलन का ऐलान किया है.

इस दौरान किसानों ने सब्जियों और दूध को बाहर शहर न भेजने का ऐलान किया है. किसानों का ऐलान है कि गांव बंद के दौरान वे एक जून से 10 जून तक अपने उत्पादन, फल, सब्जी, दूध और अनाज समेत दूसरे उत्पाद शहर नहीं भजेंगे.

किसान आंदोलन से निपटने के लिए जिले में गुरुवार शाम से अलर्ट जारी हो गया. पांच एसएएफ की कंपनियां भी पहुंच गई हैं. इसके अलावा दंगानिरोधी पांच वज्र वाहन भी जिले में एसडीओपी मुख्यालयों पर भेजे गए हैं.

r

प्रशासन ने 35 जिलों में करीब 10 हजार लाठी-डंडे बंटवाए गए हैं. और 5000 अतिरिक्त जवान तैनात किए गए हैं. चिन्हित 35 जिलों में 10 हजार लाठियों के साथ हेलमेट, चेस्टगार्ड आवंटित किए. 100 चार पहिया पुलिस वाहनों को भेजा गया.

सबसे ज्यादा वाहन इंदौर, राजगढ़ में 8-8, मुरैना में 7, भोपाल, दतिया में 6-6, शिवपुरी, गुना, सतना में 5-5 गाड़ियां दी गई. SAF की 87 कंपनी, 5000 अतिरिक्त जवान तैनात किये गए.

आईजी इंटेलीजेंस मकरंद देउस्कर ने कहा कि अभी इंटरनेट सेवाओं पर किसी तरह की पाबंदी नहीं लगाई गई है. इस तरह के कदम गंभीर कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित होने पर ही उठाए जाते हैं. बॉन्ड भरवाने की प्रक्रिया पर उन्होंने कहा कि जिला पुलिस अपनी आवश्यकता के मुताबिक कार्रवाई कर रही है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?