38907562 10211581550884263 4066856673761820672 n 640x427

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) को रजिस्ट्रार के रूप में आईपीएस मिलने जा रहा है। दरअसल, वर्ष 2006 बैच के यूपी कैडर के आईपीएस अधिकारी अब्दुल हमीद को एएमयू का रजिस्ट्रार बनाया गया है।

टेक्निकल विंग में पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात हमीद औरया, हापुड़, महोबा, शामली, बाराबंकी, झांसी और रायबरेली के एसपी भी रह चुके हैं। दंगों के वक्त मुजफ्फरनगर की कमान उनके ही हाथों में थी। एएमयू के जॉइंट रजिस्ट्रार मो. आरिफुद्दीन अहमद ने कुलपति की सहमति के बाद उनकी नियुक्ति का आदेश जारी कर दिया है।

अब्दुल हमीद ने इंडियन स्कूल ऑफ माइन्स धनबाद से एमबीए और लखलऊ विवि से बैचलर ऑफ मैनेजमेंट की डिग्री हासिल की। वह पारस्पारिक प्रबंधन और कम्पयूटर एप्लीकेशन्स में दक्षता रखते हैं। गौरतलब है कि पिछले दिनों एएमयू वीसी प्रो. तारिक मंसूर ने निवर्तमान रजिस्ट्रार प्रो. जावेद अख्तर का इस्तीफा मंजूर कर उन्हें उनके मूल पद पर तैनाती दे दी थी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आईपीएस अब्दुल हमीद 2012 -13 के दौरान चर्चा में आए थे, उस वक्त वे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली जिले के एसपी हुआ करते थे। शामली में भाजपा के दिवंगत नेता हुकुम सिंह और वर्तमान में योगी सरकार में गन्ना मंत्री सुरेश राण द्वारा शहर का माहौल खराब करने की कोशिश की गई थी, ये दोनों नेता शामली में धरने पर बैठ गए थे और माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे। इस पर आईपीएस अब्दुल हमीद ने लाठी चार्ज करा दिया था।

इस लाठीचार्ज से गुस्साए थानाभवन के विधायक सुरेश राणा ने अब्दुल हमीद पर अमर्यादित टिप्पणी की थीं, फिर कुछ महीने बाद मुजफ्फरनगर में दंगा भड़क गया जिसके बाद अब्दुल हमीद का ट्रांसफर कर दिया गया था। यूपी में योगी सरकार आने के बाद अब्दुल हमीद को पुलिस कंप्यूटर सेंटर में तैनात कर दिया गया।

Loading...