केंद्र की मोदी सरकार अल्पसंख्यक समुदाय को बेहतर शिक्षा देने के उद्देश्य से राजस्थान के अलवर में इंटरनेशनल एजुकेशनल इंस्टीट्यूट फॉर माइनॉरिटिज खोलने जा रही है.

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के अनुसार, अल्पसंख्यको के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर का इंस्टीट्यूट खोलना केंद्र सरकार की पहली प्राथमिकता में से एक हैं. सरकार ने इस इंस्टीट्यूट के लिए राजस्थान के अलवर में 100 एकड़ जमीन आवंटित की है. इन इंस्टीट्यूट में छात्राओं के लिए 40 फीसदी सीटें आरक्षित रखी जाएंगी.

नकवी के अनुसार अल्पसंख्यकों और खास कर मुस्लिम में शिक्षा का दर स्तर राष्ट्रीय औसत दर से काफी कम है. इस स्थिति को सुधारने के लिए केंद्र सरकार लगातार बेहतर प्रयास कर रही है. नकवी ने कहा कि केंद्र सरकार की यह बड़ी योजनाओं में से एक है क्योंकि इसके तहत सभी संस्थाओं में रिसर्च सेंटर, लैब, लाइब्रेरी समेत खेलकूद जैसी सुविधाएं उपलब्ध होंगी.

आप को बता दें कि देश के अलग-अलग इलाकों में ऐसे ही पांच इंस्टीट्यूट खोलने की तैयारी है. इसके अलावा मंत्रालय अल्पसंख्यक छात्रों के लिए 100 से ज्यादा स्कूल खोलने की भी तैयारी में है. इस साल के अंत तक इनमें से 32 स्कूल शुरू कर दिए जाएंगे.

अल्पसंख्यक मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक उत्तरप्रदेश के ग्रेटर नोएडा में अल्पसंख्यकों के लिये ‘‘स्किल डेवलपमेंट हब’’ तैयार करने के लिये काम चल रहा है. अल्पसंख्यक मंत्रालय का कहना है कि सभी संस्थानों में तमाम  सुविधाएं उपलब्ध होंगी इसलिए एक संस्थान के लिए कम से कम 50 से 100 एकड़ जमीन की जरूरत होगी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?