देश में इतिहास के साथ खिलवाड़ करना एक चलन बन गया है. कभी ऐतिहासिक धरोहरों को निशाना बनाया जाता है. तो कभी एतिहासिक लोगों को निशाना बनाया जाता है. ताजा मामला चीन ने जुड़ा है.

मध्य प्रदेश में आठवीं कक्षा की संस्कृत पुस्तक में बच्चों को 1962 के युद्ध में बारें में पढ़ाया जा रहा है कि 1962 के युद्ध में भारत ने चीन को हराकर जीत हासिल की थी. ये जुत्हू जानकारी ‘श्री जवाहर लाल नेहरू’ शीर्षक वाले पाठ में दी गई है.

पाठ में लिखा है कि जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल के समय चीन ने भारत के खिलाफ साल 1962 में युद्ध छेड़ दिया था. नेहरू के प्रयासों से भारत ने चीन को हरा दिया था. ध्यान रहे 1962 के युद्ध में चीन की जीत हुई थी.

इस पुस्तक को लखनऊ के कृति प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक को पांच लेखकों ने लिखा है. हालांकि इतिहास से छेड़छाड़ का ये पहला मामला नहीं है.

हाल ही में महाराष्ट्र में 7वीं कक्षा की किताब में से सल्तनत काल और मुग़ल काल की उपलब्धियों को हटा दिया गया. तो वहीँ राजस्थान में हल्दीघाटी युध्द में महाराणा प्रताप को विजेता घोषित कर दिया गया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?