जम्मू: जम्मू चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (जेसीसीआई) की धमकी के बाद राज्य में रह रहे रोहिंग्या मुस्लिमों को निशाना बनाना शुरू कर दिया गया हैं. इस धमकी के चलते भगवतीनगर में रह रहे रोहिंग्या शरणार्थियों की झोंपड़ियों में आग लगा दी गई.

रोहिंग्या शरणार्थियों के खिलाफ हुए इस अपराध की जम्मू के उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन ने कड़ी निंदा की हैं. एसोसिएशन के महासचिव बशीर सिद्दीक़ ने कहा कि पुलिस इस अपराध के दोषियों को बचाने में लगी हुई हैं. कुछ पुलिस अधिकारी इस अपराध को शॉर्ट सर्किट का मामला बता कर मामलें को रफा-दफा करना चाहते हैं.

याद रहें कि जम्मू चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (जेसीसीआई) के अध्यक्ष राकेश गुप्ता ने 7 अप्रैल को रोहिंग्या मुस्लिमों के मुद्दे पर धमकी दी थी. उन्होंने कहा था कि अगर एक महीने में रोहिंग्या मुस्लिमों को जम्मू से बाहर नहीं निकाला गया तो वह उनके खिलाफ हिंसा शुरू कर देंगे. उन्होंने कहा था कि  ‘पहचानो और मारो’ अभियान शुरू करने के अलावा कोई विकल्प नहीं रहेगा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीँ  कुछ दिन पहले भी जम्मू के बाहरी इलाके पट्टा बोहरी में भी एक रोहिंग्या परिवार की पिटाई की गई थी. साथ ही उन्हें राज्य छोड़ने की धमकी भी दी गई थी. मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने धमकी देने वालों पर कारवाई का आश्वासन दिया हैं.

Loading...