kankal 5a8bc00e55367

kankal 5a8bc00e55367

देश में गौरक्षा के नाम पर बड़े पैमाने पर गोरखधंधा चल रहा है. आए दिन कथित गौरक्षक गौशाला में घपले कर गायों को भूखे मारने, गायो को मारकर चमड़े की तस्करी करने के मामले में पकड़ा रहे है.

ताजा मामला मध्यप्रदेश के रायसेन का है. शहर के बृजमोहन रामकली गौसंरक्षण केंद्र में लगभग 150 गायों का कंकाल मिले है. इन कंकालो के मिलने के बाद हंगामा मच गया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, गौसेवा के नाम पर यहाँ गायों को मारकर अवैध रूप से चमड़े का काम किया जा रहा था. ये पुरा अवैध व्यापार पूरी सुरक्षा में लिया जा रहा था. भगवा गमछे डालकर 24 घंटे गौरक्षक गौशाला के बाहर और अंदर तैनात रहते थे.

हालांकि केंद्र के मालिक प्रहलाद दास मागरे का कहना है कि, रोज़ाना पंद्रह से बीस गाय मरती है, उन्हें कहाँ तक दफ़न करें इसलिए कंकाल जमा हो गए हैं, प्रहलाद ने खाल निकलने के लिए भी एक कसाई गोपाल अहिरवार को रखा है, जिसे वो दस हज़ार रूपए महीना देता है.

वहीँ आस पास के लोगों का कहना है कि, किसी को अंदर जाने की इजाजत नहीं है और केंद्र में गायों को कुछ नहीं खिलाया जाता है. बड़ी बात तो यह है कि, अगर केंद्र में रोज़ाना गायें मरती हैं तो 1998 में पंजीकृत हुई इस संस्था द्वारा कभी इस बारे में कोई कदम क्यों नहीं उठाया गया या किसी को जानकारी क्यों नहीं दी गई.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें