राजस्थान के बूँदी ज़िले में स्थित बाबा मीरा साहब की पहाड़ी पर वन विभाग और प्रशासन की मिलीभगत से सांप्रदायिक व्यक्तियों द्वार किये जा रहे अतिक्रमण करने के विरोध में क्षेत्रवासियों और स्थानीय निवासियों ने कलेक्ट्रेट का घेराव किया.

साथ ही स्थानीय निवासियों ने आज अपना कारोबार बंद रखा और बाबा मीरा साहब स्थित ईदगाह में हज़ारों की संख्या में एकत्रित होकर प्रशासन द्वारा सांप्रदायिक शक्तियों को बढ़ावा देने को लेकर अपना विरोध जाहिर किया.

इस मौके पर वेलफ़ेयर पार्टी ऑफ इंडिया के प्रदेश सचिव श्री सैफुल्लाह के नेतृत्व में प्रतिनिधि मंडल कोटा से बूंदी पहुंचा. इस दौरान प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए सैफुल्लाह ने कहा कि बाबा मीरा साहब की पहाड़ी पर सदियों से सभी समाज के लोग आते रहे हैं और सांप्रदायिक सौहार्द्र का का नमूना पेश करते रहे हैं.  परंतु अचानक से कुछ सांप्रदायिक लोग माहोल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होने कहा कि यह ऐतिहासिक तथ्य है कि सदियों से बाबा मीरा साहब की पहाड़ी पर कोई भी अन्य धार्मिक स्थल नहीं है फिर अचानक से वहां मूर्ति रख कर माहोल खराब करने की कोशिश की जा रही है और यह सब वन विभाग और प्रशासन की मिली भगत और शह पर किया जा रहा है जो कि बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. .

युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष मुहम्मद खालिद ने कहा कि प्रशासन द्वारा अवैध निर्माण हटाने के लिए जो 8 दिन का समय दिया गया है वो पूरी तरह से अनुचित है. उन्होने कहा कि जब वहां सदियों से किसी भी प्रकार का निर्माण था ही नहीं तो 8 दिन का समय क्यूँ? उन्होने कहा कि तुरंत प्रभाव से अवैध निर्माण को ध्वस्त किया जाना चाहिए और अतिक्रमण करवाने वाले वन विभाग के कर्मचारियों के खिलाफ FIR दर्ज करवायी जाए.

तिनिधिमंडल मे अल फलाह एजुकेशनल एंड वेलफ़ेयर सोसाइटी के अध्यक्ष अतीकअहमद अंसारी, वेलफ़ेयर पार्टी कोटा के संगठन सचिव अमानउल्लाह अंसारी, वेलफ़ेयर पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ता शाहिद क़ुरेशी, युवा मोर्चा ज़िला उपाध्यक्ष काशीफ खान और बूंदी प्रभारी अनवर भाई और बूंदी के इरशाद भाई और साथी उपस्थित रहे.

Loading...