तबरेज अंसारी को न्याय दिलाने के लिए IIM के अध्यापकों और छात्रों ने उठाई आवाज

7:21 pm Published by:-Hindi News

तबरेज अंसारी केस में पुलिस की लापरवाही के खिलाफ इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (IIM) बेंगलुरु के करीब 100 छात्र-छात्राओं ने आवाज बुलंद की है। जिसमे शिक्षकों और कर्मचारियों ने भी साथ दिया है।

इन लोगों ने पीएम मोदी को ईमेल के जरिए पत्र भेजा, जिसमे कहा गया कि ‘तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग केस में झारखंड पुलिस ने जिस तरह से जांच की है उससे हम सब हैरान है। हम चाहते हैं कि आप इस केस में फिर से राज्य सरकार को जांच करने का आदेश दें। सभी नागरिकों के जीवन और स्वतंत्रता की रक्षा करना राज्य का संवैधानिक आधिकार है।’

पीएम को भेजे इस ईमेल में 16 शिक्षकों, 85 छात्र-छात्राओं और संस्थान के कर्मचारियों के हस्ताक्षर हैं। बता दें कि पुलिस ने दो महीने के बाद सभी 11 आरोपियों पर से ह*त्या का चार्ज लिया है।

पुलिस का कहना है कि पीएम रिपोर्ट के मुताबिक इसमें ह*त्या का मामला नहीं बनता था। इसलिए गैर इरादतन हत्या का मामला बनाया गया। धारा 304 में भी धारा 302 की तरह सजा के प्रावधान हैं। इसमें भी उम्रकैद तक की सजा हो सकती है। सिर्फ फांसी की सजा नहीं हो सकती है।

एसपी कार्तिक ने बताया, हली पीएम रिपोर्ट पर शक होने पर दूसरे मेडिकल बोर्ड से ओपिनियन मांगा गया। लेकिन दूसरे बोर्ड ने भी पहली रिपोर्ट को ही कन्फर्म किया। इसी आधार पर पुलिस ने कोर्ट में चार्जशीट दायर की है। अब मामला कोर्ट के सामने है। अगर कोर्ट फिर से घटना की जांच का आदेश देता है, तो आगे उस हिसाब से कार्रवाई की जाएगी।

Loading...