Thursday, June 17, 2021

 

 

 

मानवाधिकार संगठन एनसी एचआरओ की कार्यशाला का हुआ सफल आयोजन

- Advertisement -
- Advertisement -

मानवाधिकार कानून भारत मे बहुत समय बाद लागू हुए… एड. मिशिका सिंह

कोटा 13 मार्च। आज 13 मार्च को कोटा में संभागीय स्तर की कार्यशाला का आयोजन मानवाधिकार संगठन एन सी एच आर ओ की राजस्थान इकाई द्वारा किया गया। एन सी एच आर ओ के प्रदेश महासचिव शब्बीर आज़ाद ने बताया कि कार्यशाला सुबह 10:00 बजे शुरू होकर सायं 5:00 बजे तक चली। कार्यशाला के दौरान मानवाधिकार मुद्दों से संबंधित कक्षाएं आयोजित हुई।

उन्होंने बताया की कार्यशाला में मानवाधिकार कार्यकर्ता एडवोकेट मिशिका सिंह दिल्ली से ,एडवोकेट अख्तर अकेला कोटा से, एडवोकेट अन्सार इन्दौरी कोटा से तथा ईशु जयसवाल दिल्ली से ने प्रतिभागियों को प्रशिक्षण दिया। इस कार्यशाला में संगठन के प्रदेश सचिव इंजी. राम कुमार चावला व अन्य पदाधिकारी और सदस्य उपस्थित हुए साथ ही कार्यशाला में 25 प्रतिनिधियों के ट्रेनिंग ली। कार्यशाला आयोजन की व्यवस्थाओं में सहयोग करने वाले आफताब खान ने बताया कि कार्यशाला विज्ञान नगर स्थित गुलशन ए ईरानी होटल में आयोजित हुई। कार्यक्रम के अंत में सभी प्रतिभागियों को संगठन की तरफ से कार्यशाला में प्रशिक्षण लेने का प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।

मानवाधिकार कानून और उनके लागू करने के विषय पर प्रकाश डालते हुए सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिसिंग वकील मिशिका सिंह ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकारों की सार्वभौम घोषणा 10 दिसम्बर 1948 को हो चुकी थी परंतु भारत मे मानवाधिकार कानून 28 सितम्बर 1993 में लागू हुआ और अभी भी इन कानूनों की स्थिति चिंताजनक है। मानवाधिकार एडवोकेट अंसार इन्दोरी ने तथ्यान्वेषण की जानकारी देते हुए समझाया कि किसी व्यक्ति को या किसी संगठन को कैसे किसी घटना की जांच करनी चाहिए और किस प्रकार पीड़ित, प्रशासन और प्रत्यक्षदर्शियों में मिलना और बात करना चाहिए और कैसे मौके का मुआयना कर रिपोर्ट तैयार करके संबंधित विभाग और आयोग को लिखना चाहिए।

भारत मे मानवाधिकार की स्थिति के बारे में बात करते हुए एडवोकेट अख्तर अकेला ने बताया कि आज जो विषम परिस्थिति उतपन्न हुई है वे निरंतर इन मानवाधिकारों के हनन और इस कानून का उलंघन होने से हुई है राजनेतिक पार्टियों और सरकारों को सिर्फ सत्ता से मतलब है मानवाधिकारों के लिए बात करने में उन्हें कुर्सी जाने का डर रहता है, ये परंपरा बरसों से चली आ रही है, इसीलिये अपने अधिकारों के लिए भी लड़ना पड़ता है।

दिल्ली से आये एन सी एच आर ओ के कन्वीनर और मानवाधिकार कार्यकर्ता ईशु जैसवाल ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग और राज्य मानवाधिकार आयोग में शिकायत दर्ज करने का ऑनलाइन सिस्टम समझाया। मंच संचालन एन सी एच आर ओ के प्रदेश महासचिव शब्बीर आज़ाद ने किया और अंत मे प्रशिक्षुओं और महमानों को धन्यवाद प्रेषित किया और कार्यशाला के बारे में उ से फ़ीडबैक लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles