उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में हुई बच्चों की मौत के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने योगी सरकार से जवाब तलब किया है।

इस मामले में दाखिल एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए योगी सरकार से इस मामले जवाब मांगा है कि बच्चों की मौत कैसे हुई। इस मामले में कोर्ट ने राज्य सरकार और चिकित्सा शिक्षा निदेशालय को 6 सप्ताह में विस्तृत जवाब देने का आदेश दिया है। अब इस मामले में अगली सुनवाई 9 अक्टूबर 2017 को होगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

यह आदेश जस्टिस विक्रम नाथ और जस्टिस दया शंकर तिवारी की बेंच ने दिए हैं। सुनवाई के दौरान राज्य सरकार के महाधिवक्ता राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि इस मामले में राज्य सरकार सभी संभव कदम उठा रही है।

साथ ही होने बताया कि अभी मुख्य सचिव की रिपोर्ट आना शेष है और रिपोर्ट आने के बाद शेष सभी कार्यवाही की जाएगी। वहीं नूतन ने कहा कि इस मामले राज्य सरकार के अब तक के कार्यों से लगता है कि वे कुछ छिपाना चाहता हैं और कुछ लोगों का बचाव किया जा रहा है।

गौरतलब रहें कि गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में करीब 70 बच्चों की मौत कथित तौर ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित होने से हुई थी। इसके लिए जिला अधिकारी रिपोर्ट में ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स और ऑक्सीजन यूनिट के इंचार्ज डॉक्टर सतीश को लापरवाही का जिम्मेदार ठहराया गया है।

Loading...