बिहार: चमकी बुखार से 73 बच्चों की मौ’त के बाद अब लू ने ले लीं 40 जिंदगियां

10:37 am Published by:-Hindi News

नई दिल्ली: बिहार में एक्यूट एंसेफिलाइटिस सिंड्रोम (दिमागी बुखार) की चपेट में आने से एक तरफ मरने वाले बच्चों की संख्या लगातार बढ़ रही है. मरने वालों संख्या 69 से बढ़कर 73 हो गई है. तो दूसरी तरफ अब लू लगने की वजह से शनिवार को 40 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं कई प्रभावित लोगों को गया के अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में गंभीर स्थिति में भर्ती कराया गया है.

जानकारी के मुताबिक मरने वाले 40 लोगों में से 14 गया से और 27 लोग औरंगाबाद से हैं. मौसम विभाग के अनुसार गया में शनिवार को 45.2 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान रिकॉर्ड किया गया. वहीं, औरंगाबाद में शनिवार को दोपहर के बाद अधिकतम पारा 43 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. गर्मी से रविवार को भी राहत मिलने की आशंका नहीं है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी लू लगने से हुई लोगों की मृत्यु पर शोक संवेदना व्यक्त की है और चार-चार लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि वह आपदा की इस घड़ी में प्रभावित परिवारों के साथ हैं. साथ ही उन्होंने पूरे बिहार में इस भीषण गर्मी एवं लू के मद्देनज़र जरूरी कदम उठाने के भी निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने इससे प्रभावित लोगों के लिए शीघ्र हर संभव चिकित्सीय सहायता की व्यवस्था करने को कहा है और जल्द उनके स्वस्थ होने की कामना की है.

गया के जिलाधिकारी अभिषेक कुमार प्रभावित लोगों को देखने अस्पताल पहुंचे. उन्होंने बताया कि मृतकों के आश्रितों को 44 लाख रुपए मुआवजे के तौर पर दिए जाने की सरकार ने घोषणा की है. यह राशि मुख्यमंत्री राहत कोष से दी जाएगी. अभिषेक ने कहा है कि कोई भी अति आवश्यक कार्य ना हो तो कड़ी धूप में बाहर ना निकलें. उन्होंने कहा कि सुरक्षा के लिहाज से सभी प्राथमिक सुविधाएं साथ रखें.

उधर मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से अब तक 73 लोगों की जान चली गई है. 10 लोगों ने तो सिर्फ 2 दिनों में ही दम तोड़ा है. मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन डॉक्टर शैलेष प्रसाद सिंह ने कहा कि बुखार के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 73 हो गई है. श्री कृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एसकेएमसीएच) में 58 और केजरीवाल अस्पताल में 11 लोगों को यह बुखार मौत की नींद सुला चुका है. बुखार से पीड़ित बच्चों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

डॉक्टरों का कहना है कि इस बीमारी का प्रकोप उत्तरी बिहार के सीतामढ़ी, शिवहर, मोतिहारी और वैशाली में है. अस्पताल पहुंचने वाले पीड़ित बच्चे इन्हीं जिलों से हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कहना है कि बुखार से बच्चों की मौत का मामला गंभीर है. साथ ही स्वास्थ्य सचिव भी नजर रख रहे हैं. उन्होंने कहा कि सभी डॉक्टरों को अलर्ट कर दिया गया है.

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें