48385345345 social media

सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वालों के लिए बड़ी खबर है। लखनऊ के एसएसपी कलानिधि नैथानी ने शुक्रवार शाम एक आदेश जारी करते हुए कहा कि अगर कोई शख्स आपत्तिजनक पोस्ट से सोशल नेटवर्किंग साइटों पर धार्मिक उन्माद फैलाने की कोशिश करेगा तो उसके खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी।

एसएसपी के मुताबिक उन लोगों पर भी कार्रवाई की जाएगी, जो इस तरह के आपत्तिजनक तस्वीरों व मैसेज पर लाइक या कमेंट करते हैं और इसे अपनी आईडी से आगे प्रसारित करते हैं। उन्होने बताया, अब ग्रुप ऐडमिन को ऐसी किसी भी तरह की डिस्टर्बिंग पोस्ट को रिमूव करना होगा या फिर पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करानी होगी। पुलिस ने इसके साथ ही भड़काऊ पोस्ट को रिपोर्ट करने के लिए हेल्पलाइन भी जारी किया है।

नैथानी ने कहा, ‘ऐसे कई सारे ग्रुप्स हैं जो केवल झूठी खबरें ही फैला रहे हैं। अब उन पर निगरानी रखना जरूरी हो गया है। अगर हम कुछ कठोर कदम उठाते हैं तो सोशल मीडिया पर झूठी सूचनाओं को फैलने से रोका जा सकता है, जिनसे सांप्रदायिक घटनाओं को रोका जा सकता है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सोशल मीडिया पर निगरानी रखने के लिए प्रदेश सरकार मेरठ में सूबे की पहली सोशल मीडिया लैब स्थापित कर रही है। इसमें सोशल मीडिया पर डलने वाले आपत्तिजनक पोस्ट का बारीकी से अध्ययन किया जाएगा।

इसमें यह देखा जाएगा कि आपत्तिजनक पोस्ट किसने डाला है। इसके बाद इसे कितने लोगों ने आगे फॉरवर्ड किया है।अपराधी की पहचान होने के बाद साइबर सेल स्थानीय पुलिस के जरिये आरोपियों पर आगे की कार्रवाई करेगी.

Loading...