harish-rawat-namaz-18-1482132264-142643-khaskhabar

देहरादून | उत्तराखंड के सरकारी मुस्लिम कर्मचारियों के लिए एक खुशखबरी है. मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सभी मुस्लिम कर्मचारियों के लिए 90 मिनट की छुट्टी की घोषणा की है. यह छुट्टी सभी मुस्लिम कर्मचारियों को शुक्रवार की नमाज पढने के लिए दी जायेगी. सरकार की घोषणा के साथ ही इस पर सियासत भी शुरू हो गयी है. मुख्य विपक्षी दल बीजेपी ने सरकार के फैसले पर सवाल उठाये है.

शनिवार को हुई कैबिनेट की बैठक में निर्णय लिया गया की सभी सरकारी मुस्लिम कर्मचारियों को शुक्रवार के दिन , नमाज पढने के लिए डेढ़ घंटे की छुट्टी दी जाएगी. हरीश रावत सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाते हुए बीजेपी ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया. बीजेपी के प्रवक्ता नलिन कोहली ने कहा की कांग्रेस सरकार वोट पाने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

नलिन ने आगे कहा की इस तरह के फैसलो का क्या आधार है? कल अगर कोई हिंदी उठकर यह कहे की उनको भी सोमवार को शिव अर्चना के लिए और मंगलावर को हनुमान पूजन के लिए 2 घंटे की छुट्टी चाहिए . तब क्या सरकार इनको दो घंटे की छुट्टी देगी? वही बीजेपी संसद प्रवेश वर्मा ने कहा की मुस्लिम कभी भी बीजेपी को वोट नही करेगा. यह मेरा अनुभव कहता है.

उधर कांग्रेस ने पलटवार करते हुए राम मंदिर का मुद्दा उठाया. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्यक्ष ने कहा की अगर यह चुनावी स्टंट है तो फिर 1400 करोड़ रूपए और 800 टन सोना खाने के बाद राम मंदिर बन गया. बीजेपी के सहयोगी दल शिवसेना ने भी सरकार के इस फैसले पर एतराज जताया है. शिवसेना ने कहा की यह मुस्लिमो का तुष्टिकरण है. हम इस मुद्दे को संसद में उठाएंगे.

Loading...