गुजरात विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहे है. रोज राजनीतिक समीकरण बन रहे है. हाल ही में खबर आई थी कि हार्दिक पटेल के समर्थकों को कांग्रेस टिकिट दे रही है. अब हार्दिक के दो अहम सहयोगियों की बीजेपी में शामिल होने की खबर है.

पीएम मोदी के गुजरात दौरे से ठीक पहले पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के महत्वपूर्ण सहयोगी वरुण पटेल और रेशमा पटेल ने भाजपा का दामन थाम लिया है. दोनों ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी की और से हार्दिक पटेल को कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने का न्योता देने के कुछ घंटों बीजेपी ज्वाइन की है.

ध्यान रहे वरुण और रेशमा पाटीदार अनामत आंदोलन समिति का प्रमुख चेहरा रहे है. ऐसे में हार्दिक पटेल को बड़ा झटका लगा है. बीजेपी ज्वाइन करने के बाद दोनों ने एक सुर में हार्दिक को ‘कांग्रेस का एजेंट’ बताया. दोनों ने कहा कि कहा कि हार्दिक ‘कांग्रेस का एजेंट’ बन गया है और मौजूदा राज्य सरकार को उखाड़ फेंकने के लिये आंदोलन का इस्तेमाल करने का प्रयास कर रहा है.

रेशमा पटेल ने कहा, ‘हमारा आंदोलन ओबीसी कोटा के तहत आरक्षण के बारे में था. यह भाजपा को उखाड़कर उसकी जगह कांग्रेस को सत्ता में लाने के लिये नहीं था. हालांकि कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनाव में सत्ता में आने पर आर्थिक रूप से पिछड़ा वर्ग को 20 फीसदी अतिरिक्त आरक्षण देने का वादा कर चुकी है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?