उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में बीजेपी को भले ही मेयर की सीटों पर बड़ी जीत हासिल हुई हो. लेकिन इस जीत का दूसरा पहलु ये भी है कि बीजेपी को इस निकाय चुनाव में बड़ी हार भी मिली है. बीजेपी के करीब आधे उम्मीदवारों की जमानत भी न बच सकी.

ध्यान रहे बीजेपी ने 12,644 सीट्स पर 8,038 उम्मीदवार खड़े किए थे. उनमे से केवल 2,366 सीट पर उन्हें जीत मिली है. साथ ही 3,656 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. ऐसे में 45 फीसदी बीजेपी उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

amm1

इसके साथ ही नगर पंचायत सदस्य चुनाव में बीजेपी के केवल 664 उम्मीदवार जीते हैं जबकि हारने वाले उम्मीदवारों की संख्या 1,462. जो जीतने वाले उम्मीदवारों की तुलना में दुगने से अधिक है. ऐसे में स्पष्ट है कि अन्य पार्टियों की तुलना में बीजेपी को बड़ी हार मिली है. अन्य पार्टियों जैसे एसपी के 54, बीएसपी के 66 और कांग्रेस के 75 फीसदी उम्मीदवारों की जमानत जब्त हुई है.

nj1

आसान शब्दों में कहा जाए तो भाजपा ने 14 मेयर के पद शानदार जीत हासिल नहीं की बल्कि नगर पंचायतों में भाजपा 438 में से 337 सीटों पर हारी है, नगर पालिका परिषद की 5261 में से 4303 सीटों पर हारी है, नगर पालिका परिषद अध्यक्ष की 198 में से 127 सीटों पर हारी है. नगर पंचायत सदस्य की 5434 की 4728 सीटों पर हारी है. बस भाजपा ने अपनी बड़ी हार को मेयर की जीत से ग़ायब ही कर दिया है.

Loading...