महाराष्ट्र के पूर्व अल्पसंख्यक कार्य मंत्री अनीस अहमद ने कहा है कि हज सब्सिडी को दस साल में धीरे-धीरे कम किया जाना चाहिए, एक बार में नहीं।

अहमद ने मांग की कि सब्सिडी कम करने के बाद उपलब्ध धन को अल्पसंख्यक समुदाय की शिक्षा और कौशल विकास में लगाया जाना चाहिए।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने पिछले दिनों नागर विमानन मंत्रालय द्वारा हज सब्सिडी 450 करोड़ रपये से कम करके 200 करोड़ रपये किये जाने के बाद विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर को ज्ञापन सौंपा था।

उन्होंने उच्चतम न्यायालय के एक आदेश का भी जिक््र किया जिसमें हज सब्सिडी को 10 साल में चरणबद्ध तरीके से कम करने को कहा गया है, एक बार में नहीं।

Loading...