अपने विवादित बायनों को लेकर चर्चा में रहने वाला बीजेपी का विधायक ज्ञानदेव आहूजा इन दिनों अब पार्टी के लिए मुसीबत बन गया है. पार्टी के वरिष्ट नेताओं ने आहूजा को पागल तक करार दे दिया. ऐसे में अब आहूजा की जल्द ही पार्टी से छुट्टी होने वाली है.

दरअसल, उपुचनाव में हार के लिए मुख्यमंत्री और पार्टी प्रदेश अध्यक्ष को जिम्मेदार ठहराया था. इस मामले में अलवर से भाजपा प्रत्याशी व सरकार में श्रममंत्री जसवंत यादव ने कहा कि ज्ञानदेव आहूजा की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है. वे निहायत ही गलत बयानबाजी कर रहे हैं. उन्होंने कहा, आहूजा को अच्छे साइकेट्रिक की जरूरत है.

इस बयान के जवाब में आहूजा ने भी कह दिया कि जसवंत यादव ऐसे मेंटल हैं, जिनका इलाज जयपुर में नहीं हो सकता. उन्‍हें आगरा ले जाने की जरूरत है. उन्‍होंने भी कह दिया कि वह अपने साथ उन्‍हें आगरा ले जाने के लिए तैयार हैं. बहरोड़ की जनता ने ही 25 हजार वोटों से हराकर उन्हें पागल घोषित कर दिया.

ध्यान रहे अलवर से भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा जेएनयू में हर रोज 3 हजार कंडोम के इस्तेमाल के बयान के चलते सुर्ख़ियों में आये थे. उनका ये बयान जेएनयू विवाद को लेकर आया था. उन्होंने कहा था, जेएनयू में रोजाना सिगरेट के 10 हजार बट्स, 500 उपयोग किए हुए अबॉर्शन के इंजेक्‍शन भी मिलते हैं.

इस मामले में अब भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने कहा कि उनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई के लिए रिपोर्ट दिल्ली भेजी जाएगी. बता दें कि राजस्‍थान में अलवर और अजमेर की लोकसभा सीटों के साथ मांडलगढ़ विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुए थे. जिसमे बीजेपी को सभी सीटों पर करारी हार मिली है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?