हरियाणा के गुरुग्राम में मुस्लिम युवक को पाकिस्तानी बताकर जबरन दाड़ी काटने के मामले में पीड़ित जफरुद्दीन का आरोप है कि सिर्फ नाई को गिरफ्तार कर पुलिस केस को कमजोर करना चाहती है। जफरुद्दीन का कहना है कि इस नस्लवादी हमले में दो अन्य लोग भी शामिल थे।

नूंह जिले के बादली गांव के रहने वाले जफरुद्दीन गुरुग्राम सेक्टर-29 में ढाबा चलाते है। जफरुद्दीन का आरोप है कि पिछले दिनों वो नाई की दुकान पर बाल कटवाने गया था। दो युवक उन्हे स्तानी बताते हुए उनकी दाढ़ी पर कमेंट करने लगे और उसे दाढ़ी कटवाने के लिए कहने लगे। जब उन्होने दाढ़ी कटवाने से इनकार किया तो दोनों युवकों ने जबरदस्ती उस कुर्सी पर बैठा दिया और बांध दिया। फिर जफरुद्दीन की दाढ़ी काट दी गई।

Irshad Hussain Meo ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಬುಧವಾರ, ಆಗಸ್ಟ್ 1, 2018

वहीं नाई अख़लाख का कहना है कि दाढ़ी नहीं काटने पर उसकी भी पिटाई की गई थी। बावजूद उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने इस मामले में नाई समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने मामले में गौरव, नितिन और अख़लाख़ को गिरफ्तार किया है। पीड़ित जफरुद्दीन ने पुलिस ने नाई अख़लाख़ को छोड़ने की अपील की है।