नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार की और से देश की जनता को आश्वस्त किया गया था कि लोगों को अब नकली नोटों से निजात मिल जायेगी. लेकिन ऐसा संभव होता दिख नहीं रहा हैं. आए दिन देश में नकली नोटों की बरामदगी की खबरे आ रही है.

इस बार गुजरात पुलिस ने राजकोट से 4.49 करोड़ रुपये के जाली नोट के साथ एक फाइनेंसर को गिरफ्तार किया हैं. पुलिस के मुताबिक नए 2000 रुपये के 22,479 नकली नोट जब्त किए गए हैं. पुलिस के अनुसार, ये जाली नोट शहर के एक फाइनेंसर केतन दवे ने छापे थे जो फिलहाल नितिन पटेल नाम के एक कबाड़ कारोबारी को धोखा देने के आरोप में न्यायिक हिरासत में है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा पुलिस को पूछताछ में पता चला कि दवे के दफ्तर में भी 57,16,000 रुपये की कीमत के नकली नोट भी मौजूद हैं. इसके साथ ही लगभग 1 करोड़ रुपये के नकली नोट उसके साथियों ने पकड़े जाने से पहले ही जला दिए. राजकोट पुलिस ने दवे के दो सहयोगियों पार्थ तेराइया और उमंग गज्जर को गिरफ्तार किया हैं.

गज्जर ने बताया कि दवे अपने ज्यादातर जाली नोटों को छिपाने के लिए अपनी गाड़ियों का इस्तेमाल करता है. राजकोट के पुलिस आयुक्त अनुपम सिंह गहलोत ने संवाददाताओं को बताया, हमनें दवे की पार्क की हुई गाड़ी की तलाशी ली और उसमें से 3.92 करोड़ रूपये मूल्य के जाली नोट बरामद किये.

Loading...