गुजरात विधानसभा चुनाव में मुस्लिमों को पूछने वाला कोई नहीं है. राज्य की 182 सीटों में से 25 सीटें मुस्लिम बहुल हैं. जिन पर जीत मुस्लिमों वोटों से निर्धारित होती है.

इस बार का चुनाव जातिगत समीकरणों पर लड़ा जा रहा है. ऐसे में मुस्लिम वोटों को पूरी तरह से नजरअंदाज किया जा रहा है. बीजेपी ने 182 सीटों में से किसी भी सीट पर मुस्लिम उम्मीदवार नहीं उतारा. वहीँ कांग्रेस ने मात्र 6 टिकट दिए है.

2012 के चुनाव में बीजेपी ने 25 मुस्लिम बहुल सीटों में से 17 पर कब्जा किया था, वहीँ 8 सीटें कांग्रेस को मिलीं थीं. इसके अलावा राज्य में बीजेपी के 200 से अधिक नगर पार्षद मुस्लिम हैं, इनमें करीब 100 चेयरमैन  ध्यान रहे 2012 के विधानसभा चुनाव में सिर्फ 2 मुस्लिम ही थे. इससे पहले राज्य में सर्वाधिक मुस्लिम विधायक 1980 में थे. जिनकी संख्या 12 थी.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बदरुद्दीन शेख ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, “हमारी पहली प्राथमिकता है कि हम यह चुनाव जीतें और पार्टी को फिर से गुजरात की सत्ता में वापस लाएं न कि यह सोचना कि मुसलमान पार्टी में पर्दे के पीछे क्यों चले गए?

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?