तमिलनाडु के शिवगंगा में दलितों का पैर पर पैर रख कर बैठना गुनाह हो गया. जिसका बदला सवर्णों ने उनकी जान लेकर चुकता किया।

जानकारी के अनुसार, दलित समाज  कुछ लोग पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे थे. जो सवर्णों को रास नहीं आया. उन्होंने इसे अपना अपमान करार देते हुए पहले गाली-गलौज की. जिसके बाद धमकाया।

इस घटना के विरोध में दलितों ने पुलिस में शिकायत की. इससे खफा सवर्णों ने बदला लेने की ठान ली. चंद्रकुमार नाम के एक सवर्ण शख्स ने पास के अवरनकाडू गांव से अपने दोस्तों को इकट्ठा किया और गांव की बिजली काटकर दलितों पर हिंसक हमला कर दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस हमले में दो दलित व्यक्ति  अरुमुगम (65) और शनमुगनाथन की अस्पताल ले जाते मौत हो गई. वहीँ तीसरे व्यक्ति चंद्रशेखर ने मदुरई के राजाजी अस्पताल में दम तोड़ दिया

डीएनए की एक खबर के मुताबिक, मामला 26 मई को तब शुरू हुआ जब दो दलित युवक तिवेंतीराम और प्रभाकरण कुरूपासामी मंदिर के बाहर पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे थे.

Loading...